आत्मविश्वास बढ़ने के 10 बेहतरीन तरीके | Self Confidence In Hindi

Self confidence in hindi

How To Improve Self Confidence In Hindi

Self Confidence In Hindiआत्मविश्वास, यानी खुद पर विश्वास; एक ऐसा  प्रेरणादायक शब्द जो ऊर्जा से भर देता है|

आत्मविश्वास ही है, जिसके सहारे वह बड़े-बड़े काम कर दिए जाते हैं जो लोगों के लिए कल्पना मात्र है|

दोस्तों, आत्मविश्वास की शुरुआत होती है छोटे-छोटे लक्ष्यों की पूर्ति से और जिसके अंत की कोई सीमा नहीं है| 

आज जीवन के हर पहलू पर आत्मविश्वास की बेहद ज़रूरत पड़ती है फिर चाहे वह किसी कंपनी में इंटरव्यू देने के लिए हो  या किसी बड़े संस्थान में एग्जाम Clear करना हो या भीड़ का संबोधन  इत्यादि, जो बस खुद पर भरोसे से ही मुमकिन  है | 

आत्मविश्वास किसी  पुराने जन्मों के कर्मों से नहीं बल्कि कुछ ख़ास तरीकों को अपनाने से आता है जो आज सरलयुक्ति से माध्यम से Self Confidence In Hindi में हम आपको बताएँगे| 

जिसको अपनाकर आप खुद में विश्वास का बीज बो पाएंगे क्यूंकि आत्मविश्वास वह जीत है जो व्यक्ति को समाधान की ओर ले जाती है और सफलता के शिखर तक पहुंचती है| 

Self confidence in hindi
Self Confidence

आत्मविश्वास कैसे बढ़ाएं  ? Self Confidence Tips In Hindi

1) सकारात्मक सोच ( Positive Thinking):

दोस्तों, आत्मविश्वास की शुरुआत एक सकारात्मक सोच से ही होती है जो सभी कार्यों को सही अंजाम देती है |

दूसरी तरफ नकारात्मकता जीवन को निराशा की ओर धकेलती है और आत्मविश्वास को तोड़ती है| 

इसीलिए यदि आप आत्मविश्वास से भरपूर रहना चाहते हैं जीवन में सकारात्मकता को अपनाएं, अच्छा और सही सोचें क्यूंकि  सकारात्मक सोच ही सकारात्मक नजरिए को जन्म देती है| 

जिससे आप अपनी विफलताओं को छोड़ सफलताओं पर ज़ोर दें पाएंगे, हर परिस्थिति  को देखने का सही ढंग  विकसित कर पाएंगे  और साथ ही क्यों नहीं हो सकता की जगह क्यों हो सकता है? पर ज्यादा ध्यान दे पायेंगे |

इसीलिए सकरात्मत सोचिये और सकारात्मक रवैये की बदौलत जीवन में आगे बढिये | 

2) समय प्रबंधन ( Time Management) :

Self Confidence Tips In Hindi यह है कि Time का सही प्रयोग किया जाना चाहिए जो आत्मविश्वास बढ़ाने का कारगर तरीका है क्यूंकि “Time Is Money“.

आजकल जो समय के हिसाब से नहीं चलता वो इस भाग दौड़ भरी ज़न्दगी में अक्सर पिछड़ जाता है जो उसके आत्मविश्वास के लिए घातक है|

फिर चाहे वह किसी को  मिलने के लिए दिया गया  समय हो, पढ़ाई के लिए निकाला गया समय  या इंटरव्यू पर समय पर पहुंचना इत्यादि|

इसीलिए अपने कामों की एक List तैयार करें और समय और ज़रूरत के हिसाब से उनको बाटें , साथ ही उनको समय  पर पूरा करने का प्रयत्न करें जो आपके आत्मविश्वास में कई गुना बढ़ोतरी कर सफलता की ओर प्रेरित करेगा |

3) ज्ञान को बढ़ाएं ( Increase Knowledge):

दोस्तों, ज्ञान वो शक्ति है जो व्यक्ति के आत्मविश्वास को नयी गुना बढ़ा देती है और जिसकी महत्ता ( Importance ) स्वं श्री कृष्ण ने गीता जी में बताई है, जो व्यक्ति को पशुता के स्तर से कहीं ऊपर उठती है | 

ज्ञान सफलता की वह सीढ़ी है जो इंसान को कभी गिरने नहीं देती बल्कि निरंतर आगे बढ़ाती रहती है |

इसीलिए, यदि आप अपने आत्म विश्वास को बढ़ाना चाहते हैं तो भौतिक और आध्यात्मिक दोनों ज्ञान को जीवन में उतारिये जिसके लिए आप अपनी मन पसदं किताबें पढ़ सकते हैं या  कोई Online या  Offline Course भी कर सकते हैं जो आपके भौतक ज्ञान में बढ़ोतरी करेगा |

इसके साथ ही किसी  गुरु या आध्यात्मिक किताबों के  द्वारा आप आध्यात्मिक ज्ञान को पाने में भी सफल प्रयास कर  सकते हैं जो जीवन का आधार है |

यदि आप बताये गए ज्ञान के तरीकों को अपनाते हैं तो खुद में अध्बुध बदलाव महसूस पड़ेंगे जो आपके आत्मविश्वास को तेज़ी से बढ़ाएगा और जीवन में सफलता का माध्यम बनेगा |

4) अपने ऊपर ध्यान दें (Pay Attention To Yourself):

Self Confidence बढ़ाने के लिए अपने ऊपर ध्यान देना यानी अपनी Body Language और Dressing Scene से है जो आत्मविश्वास के साथ साथ व्यक्ति की सकारात्मक ऊर्जा को भी बढ़ाता है | 

क्यूंकि जो व्यक्ति खुद पर ध्यान नहीं देता उसे न तो घर में सम्मान मिलता है और न ही समाज के लोग उसे पसंद करते हैं | 

इसीलिए व्यक्ति को चाहिए कि वह अपनी साफ़- सफाई का ध्यान रखे, साफ़-सुथरे कपडे पहने,  राय अनुसार Looks के साथ Experiment करता रहें, सेहत के प्रति सचेत रहे, जिसके लिए अपने खान-पान और कसरत का विशेष ध्यान रखें, जो समाज में पहचान दिलाने के साथ साथ आत्मविश्वास में भी ज़बरदस्त बढ़ोतरी करेगा | 

याद रहे  : First Impression Is The Last Impression

5) तुलना न करें ( Stop Comparing):

यदि आप  आत्मविश्वास बढ़ाना या कायम रखना चाहते हैं तो Comparison जैसी चीज़ को ज़िन्दगी से उखाड़ फेंकिए, क्यूंकि “Comparison Always Kills.”

तुलना वो घातक रोग है जिसके शिकार आज हम सभी हैं और जो व्यक्ति को अंदर ही अंदर मारता रहता है | याद रखिये हर शख्स ख़ास है और  हर किसी में गुण और अवगुण दोनों होते हैं, इसीलिए दूसरों के महलों को देखकर खुद की झुगियों में आग लगाना बंद कीजिये और खुद पर भरोसा रख जीवन में आगे बढिये क्यूंकि हर चमकती चीज़ सोना नहीं होती |

 

6) कमियों पर काम करें ( Work On Your Weakness):

दोस्तों, जैसे बताया गया है कि हर शख्स में कुछ न कुछ कमियां ज़रूर होती हैं लकिन उन कमियों को नज़रअंदाज़ करना आपके आत्मविश्वास के लिए हानिकारक हो सकता है | इसलिए चिंता छोड़ कर अपनी कमियों पर चिंतन करना शुरू कीजिये|

एक लिस्ट बनाइये जिसमे अपने सभी गुण और अवगुणों को लिखिए और उसी हिसाब से अपनी कमियों पर काम करना शुरू कीजिये, याद रहिये कोई भी काम रातों रात नहीं होता उसके लिए समय और निष्ठां का होना ज़रूरी है |

यदि आप बताये गए तरीकों से कमियों पर काम करेंगे तो खुद में बदलाव महसूस कर आत्मविश्वास को बढ़ता हुआ देखेंगे |

 

7) खुद की इज़्ज़त करें ( Self Respect):

 दोस्तों, Best Self Confidence Tip यह है कि अपनी Self-Respect को हमेशा कायम रखें ,क्यूंकि यह  वह ताकत है जो आपको कभी झुकने नहीं देती |

जो  इंसान खुद की इज़्ज़त करता है, वही समाज से इज़्ज़त पाता है और आत्मविश्वास से भरपूर रहता है | 

Self-Respect बढ़ाने का सबसे बेहतरीन तरीका हैं जैसे :

  • अपनी बातों पर स्टैंड लेना|
  • दूसरों पर कम निर्भर रहना| 
  • सच का साथ देना | 
  • दूसरों की इज़्ज़त करना, इत्यादी |

-इसलिए यदि आप आत्मविश्वास से भरपूर रहना चाहते हैं तो खुद की सराहना करें, खुद को कोसने से बचें और जीवन में आगे बढ़ें | 

 

8) ज़िम्मेदारी लेना सीखें ( Take Responsibility) :

यदि आप आत्मविश्वास से भरपूर जीवन जीना चाहते हैं तो ज़िम्मेदारियाँ लेना सीखें जो आपमें आत्मविश्वास से साथ साथ आपके सम्मान में भी बढ़ोतरी करेगा जैसे :

  • व्यक्तिगत ज़िम्मेदारी |
  • परिवार के प्रति ज़िम्मेदारी |
  • समाज के प्रति ज़िम्मेदारी या
  • धर्म के प्रति ज़िम्मेदारी, इत्यादि |

ये सब वह ज़िम्मेदारियाँ है जो व्यक्ति के अनुभव का हिस्सा बनती हैं और जीवन में कई अनोखी सीखें लाती हैं |

साथ ही यदि आपसे कोई गलती या चूक हो जाये तो बिना डरे उनकी ज़िम्मेदारी लेना सीखें जो आपके आत्मसम्मान के साथ आत्मविश्वास को बढ़ाने में बेहद कारगर साबित होगी, क्यूंकि एक आत्मविश्वास से भरा व्यक्ति ही दूसरों का सही मार्गदर्शन कर सकता है |

 

9) पुरानी गलतियों से सीखें ( Learn From Your Past Mistakes):

दोस्तों, हर इंसान कभी न कभी गलतियाँ ज़रूर करता है और यही ग़लतियाँ भविष्य में उसके अनुभवों का कारण बनती हैं, जो उसको सही गलत का फर्क बताकर सही निर्णय तक पहुंचाती हैं और आत्मविश्वास को पक्का करती हैं |

इसीलिए व्यक्ति को चाहिए कि गलतियों को दोहराये बिना पुरानी गलतियों से सीखे और  ज़िन्दगी के खट्टे व मीठे अनुभवों के आधार पर जीवन में आगे बढ़े |

साथ ही गलतियों के प्रति सचेत रहकर अपने आत्मविश्वास में बढ़ोतरी करे |

10) आत्मविश्वासी लोगों से सीखें ( Learn From Confident People) :

Self Confidence Tip में यह तरीका आत्मविश्वास बढ़ाने में काफी मददगार साबित हो सकता है, क्यूंकि आत्मविश्वास से भरा व्यक्ति ही समाज की दिशा और दशा दोनों सुधर सकता है|

इसीलिए, जीवन में किसी को अपना Role Model ज़रूर बनाए फिर चाहे वह माँ- बाप हों  या कोई महात्मा पुरुष  (विवेकानंद जी या महात्मा गाँधी जी)  या फिर कोई लोकप्रिय व्यक्ति जिनको सुनकर या पढ़कर आप बेहद प्रभावित होते हैं |

ऐसा करके आप उनके गुणों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करेंगे जो भविष्य में आपकी सफल, आदर्शवादी और आत्मविश्वास से भरपूर नींव तैयार करेगा |

निष्कर्ष ( Conclusion) :

दोस्तों, जैसे आपने जाना कैसे आत्मविश्वास का होना बेहद ज़रूरी है जो इंसान को जीवन के हर मोड़ पर काम आता है और सफलता की और प्रेरित करता है | 

इसीलिए यदि आप आत्मविश्वास की शक्ति  को समझना चाहते हैं तो Self Confidence के तरीकों को समझकर जीवन में इसका निरंतर अभ्यास करना पड़ेगा | 

मैं आशा करता हूँ सरल युक्ति के माध्यम से लेखे “Self Confidence In Hindi” आपको पसंद आया होगा और आपको “Self Confidence Tips ” को  समझने में सहायता मिली होगी |

आप इस लेख को अपने मित्रों और सम्बन्धियों को Social Media पर शेयर भी कर सकते हैं और अपने सुझाव मुझको भेज सकते हैं जिससे मुझे और बेहतर लिखने की प्रेरणा (Inspiration) मिलेगी |

हमेशा खुश रहिये और मुस्कुराते रहिये ||

धन्यवाद |

 

 

 

 

About Vinay Rajput

Hi, I m Vinay Rajput, an Author, and founder of Saralyukti.com. I m here to publish motivational and other blogs to inspire people to live an easy life in day-to-day unwanted circumstances and issues.

View all posts by Vinay Rajput →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *