गुस्से पर काबू कैसे पाएं ? How To Control Anger In Hindi-12 Tips

How to control anger in hindi

गुस्से पर काबू कैसे पाएं ? How To Control Anger In Hindi

गुस्सा क्या है ? ( Anger In Hindi) : दोस्तों, गुस्सा एक ऐसी  Feeling  है जो आपको अंदर ही अंदर जलाकर Frustration से भरपूर  नकारात्मक की ओर धकेलती है |

अक्सर लोग समझते हैं गुस्सा एक Normal  फीलिंग है, लेकिन यह एक ऐसी Abnormal प्रतिक्रिया  (Reaction) है जो सिर्फ अपना और दूसरों का नुकसान ही करती है |

इस विनाशकारी प्रतिक्रिया में व्यक्ति अपना आपा (Control) खोकर ऐसे अपशब्द या एक्शन ले बैठता हैं जो ज़िन्दगी भर उसके पछतावे का कारण बनती हैं | 

आज हम सब शायद इतने  कमजोर और खाली हो गए हैं कि अपने पर कंट्रोल ही खो बैठे हैं और हर छोटी छोटी बात पर गुस्सा कर देते हैं | 

 याद रहे:  माचिस पहले खुद को जलती है फिर दूसरों को| 

इसलिए यदि व्यक्ति सोचे कि दूसरे पर गुस्सा करके वह  संतुष्ट और ताकतवर हो गया है तो  गलतफहमी  में हैं, क्यूंकि इंसान वो ही मजबूत होता है जो अपनी भावनाओं पर काबू रख सके, वरना लोग ऐसे गुस्साए लोगों को अक्सर अपने हिसाब से चलाते हैं | 

आईये जानते हैं गुस्से से होने वाले नुकसान :

1 ) मानसिक शांति का खोना :

गुस्से की वजह से व्यक्ति अपनी मानसिक शान्ति खो बैठता है जो उसकी Frustration Level को कई गुना बढ़ा देती है जिससे व्यक्ति चैन की नींद नहीं सो पता और बैचैन रहता है |

2 ) रिश्तों में कड़वाहट :

गुस्सा रिश्तों में कड़वाहट का भी कारण बनता है, जिसमे व्यक्ति ऐसे अपशब्द बोल जाता है जो गहरे रिश्तों में दरारें डाल देती है |

3 ) व्यवहार का हिस्सा :

अक्सर छोटी- छोटी बातों पर किया गया  गुस्सा,  व्यक्ति के व्यवहार का हिस्सा बन जाता हैं जो उसको सभ्य लोगों की भीड़ से अलग कर उसके अकेलेपन का कारण बनता है |

4 ) सेहत का नुकसान :

ज्यादा गुस्सा व्यक्ति की सेहत पर गहरा असर डालता है जिससे उच्च रक्तचाप ( BP), घबराहट, कपकपी और अवसाद जैसे रोगों का खतरा बना रहता है |

5 ) सोचने की क्षमता पर असर :

जब व्यक्ति गुस्सा करता है तो उसके सोचने और विचारने  की क्षमता पर बेहद असर पड़ता है जिससे वह सही और सटीक निर्णय नहीं ले पाता और परिस्थियों में फसता चला  जाता है |

6 ) अपराध को जन्म :

गुस्सा इंसान को बुद्धि को नष्ट कर देता है जिससे वह ऐसे अपराध कर बैठता है जो उसको और परिवार को बर्बादी के कगार पर लाके खड़ा कर देता है जैसे : किसी को दी गयी धमकी या कत्ल इत्यादि | क्यूंकि :

आज ज्यादातर मुज़रिम सिर्फ अपने गुस्से के कारण ही जेल की सलाखों के  पीछे हैं |

इसीलिए आज हम सरलयुक्ति के माध्यम से गुस्सा पर काबू कैसे रखे ? में ऐसे बेहतरीन तरीकों को लाये हैं जो यदि आपने खुद में उतार लिए तो आप अध्बुध बदलाव महसूस करेंगे और जीवन में धैर्यवान बनेंगे |

How to control anger in hindi

गुस्सा कैसे काबू करें ? How To Control Your Anger In Hindi

1) वजह को जाने:

 दोस्तों , यदि आप गुस्से को काबू करना चाहते हैं तो सबसे पहले गुस्से के कारण को जाने , क्योंकि गुस्सा वो  शिकारी है जिसके शिकार हम सभी होते हैं, बस फर्क है कोई ज्यादा तो कोई कम| 

आखिर गुस्सा आता क्यों है?

  • कोई ऐसी बात जो आपको नापसंद हो | 
  •  कोई ऐसी पुरानी दुर्घटना या परिस्थिति जो आप कंट्रोल करना चाहते थे नहीं कर पाए| 
  • किसी व्यक्ति से जुड़े  नकरात्मत्क अनुभव या बातें | 
  • आपकी कमजोरियों को टटोलना | या 
  • बोले गए अपशब्द इत्यादि |

ये सब कारण  हैं जिनकी वजह से व्यक्ति गुस्से का शिकार होता है लेकिन यदि आप गुस्से पर काबू रखना चाहते हैं तो पहले आपको यह स्वीकार करना पड़ेगा कि  कोई भी  परिस्थिति या व्यक्ति आपके हिसाब से नहीं चल सकता, क्यंकि  हर व्यक्ति का व्यवहार और जीवन की परिस्थितियां अलग अलग होती हैं |

 दूसरा:  किसी को यह हक ना दें कि वह आपसे जैसा चाहे वैसा व्यवहार या मज़ाक कर सकें| 

 तीसरा :अपनी कमजोरियों पर काम करना शुरू करें और लगातार अभ्यास करें, जो आगे चलकर आपकी आदतों का हिस्सा बनेंगी , फिर यही आदतें भविष्य में आपकी ताकत का रूप लेंगी | 

2) परिस्थितियों को टालना सीखे

दोस्तों, परिस्थियों को टालने का अर्थ काम को टालने से नहीं है बल्कि गुस्से की वजहों को टालने से है|

 इंसान ही सिर्फ एक ऐसा जीव है जिसे ईश्वर ने बुद्धि का तोहफा दिया है तथा उसे चाहिए कि उस तोहफे का  भरपूर और सही इस्तेमाल करें|  जैसे :

जब भी आप किसी से बात या फिर किसी टॉपिक पर चर्चा कर रहे हों और  इससे पहले कि वह चर्चा आगे  चलकर बहस या लड़ाई का रूप लेने लगे, आप उस टॉपिक या परिस्थिति को  ही बदलने का प्रयास करें, जिसे आप गुस्से की वजहों को नया मोड़ देने में कामियाब हो पाएंगे| 

3) वाणी में मधुरता लाना सीखें

यदि आप गुस्से पर काबू पाना चाहते हैं तो अपनी वाणी में मधुरता लाना सीखिए क्यूंकि जैसा आप दूसरों से व्यवहार करेंगे ठीक वैसा ही व्यवहार लोगों  से पाएंगे | 

अपनी बात को बोलने से पहले तोलिये और सही शब्दों का चुनाव कीजिये जो दिलों को जीत सकें न की भेद सकें |

इसीलिए दिमाग को ठंडा, मन को शांत और वाणी में मिठास लाईये फिर कोई आपका दुश्मन नहीं बनेगा | 

4) गहरी सांसें भरें :

गुस्से पर  काबू करने का यह एक बेहतर तरीका है , क्यूंकि जब भी गुस्सा आता है तो व्यक्ति की हार्टबीट तेज़ होने लगती है और स्ट्रेस लेवल बढ़ने लगता है , जिससे वह अशांत होने लगता है |

इसीलिए जब भी गुस्सा आये तो गहरी सांसे भरना शरू कीजिये जिससे मन भी शांत होगा और दिमाग को सुकून मिलेगा|

5) सुनहरे दृश्ये की कल्पना करें:

जब भी किसी को गुस्सा आता है तो वह किसी सोच में अटक कर रह जाता है जो उसके गुस्से का कारण बनती है | यदि आप अपने गुस्से पर काबू करना कहते हैं तो गुस्से के वक़्त किसी सुनहरे दृश्ये की कल्पना करना शुरू कीजिये जैसे :  अपनी ज़िन्दगी के वो पल याद कीजिये अब आप बेहद खुश थे या बचपन के वो सुनहरे दिन जब आप इस माया जाल से मुक्त थे |

आप महसूस करेंगे की आपके चेहरे पर एक मुस्कान आ गयी है और आप अच्छा महसूस करने लगे हैं |

6) प्राणायाम और ध्यान को अपनाएं  :

प्राणायाम और ध्यान एक ऐसा माध्यम जो व्यक्ति के विचारों को बेहद शांत करता है , क्यूंकि अशांत मन ही विचारों को जन्म देता है जो उसके गुस्से का कारण बनती हैं |

रोज़ाना व्यायाम और ध्यान को अपनी आदत का हिस्सा बनाएं | कम से कम 15-20 मिनट Meditation को दें और साँसों की गति पर ध्यान लगाएं और साथ ही  आप किसी चीज़ (Object) पर ध्यान लगा सकते हैं जिसे त्राटक कहते हैं, जिससे मन शांत होने लगेगा |

रोज़ाना कम से कम 30 मिनट Exercise को दें जिससे आपकी मांस पेशिया मज़बूत होंगी और दिमाग में Dopamine Chemical निकलेगा जो आपको खुश रखेगा और जहाँ ख़ुशी रहती है वहां गम और गुस्सा ठहर नहीं सकता |

7) मनोरंजन का सहारा :

Tips To Control Anger यह है की जब भी आपको गुस्सा आये या गुस्सा काबू से बाहर होने लगे तो मनोरंजन का सहारा लें जैसे : कोई खूबसूरत संगीत सुने या कोई  हास्य कार्यक्रम देखें या कोई चुटकुला पड़ें या अपनी मनपसंद किताबें पढ़ें जो आपको व्यस्त रखने के साथ साथ गुस्से को भी खत्म करेगी |

8) पानी पिएं:

ये एक ऐसा सरल उपाए है जो आपके गुस्से को छूमंतर कर तुरंत लाभ पहुंचाएगी , क्यूंकि आग को पानी शांत करता है ठीक उसी तरह गुस्से की आग को भी पानी से शांत किया जा सकता है |

जब भी गुस्सा आये एक गिलास पानी पिएं और खुद में बदलाव देखें |

9) क्षमा करना सीखें:

अक्सर ऐसा देखा गया है कि लोग अपनी Past Life से बहुत परेशान रहते हैं या कोई ऐसी परिस्थिति या व्यक्ति जो उनके गुस्से का  कारण बनता है, याद करते ही आगबबूला हो जाते हैं |

यदि आप गुस्सा शांत करना चाहते हैं तो पुरानी नाकारात्मक बातों  को दिमाग से निकल फेंकिए और जिन्होंने आपका बुरा किया है ,उनको को माफ़ करना सीखिए , क्यूंकि हर इंसान अपने बुरे कर्मों की सजा भुगतता है, इसीलिए खुद का दिल बड़ा कर सब ईश्वर पर छोड़ दीजिये  और जीवन में आगे बढिये |

10) उचित Affirmation को दोहराएं :

दोस्तों, ये गुस्सा शांत करने का ऐसे उपाए है जो आपको अंदर से भी मज़बूत बनाएगा | Affirmation यानी ऐसे दृणसंकल्प वाक्य जो यदि आप निरंतर दोहराते हैं तो आप खुद में बेहद अध्बुध बदलाव देखेंगे जैसे :

  • मैं शांत इंसान हूँ |
  • मुझे शान्ति पसंद है |
  • शांत रहना मेरा व्यवहार है  इत्यादि |

आप ऐसे वाक्य रोज़ाना दिन में कई बार दोहराएं जिन्हे आप कहीं लिख कर भी रख सकते हैं ताकि निरन्तर आपकी नज़र पड़ती रहे और जब  समय के साथ ये वाक्य आपके अवचेतन मन का हिस्सा बनने लगेंगे तो आप खुद में चमत्कारी बदलाव महसूस करेंगे |

11) संतुलित आहार :

दोस्तों, आहार का हमारे जीवन में ख़ास महत्त्व है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद ज़रूरी है, क्यूंकि अच्छा आहार ही अच्छे विचारों को जन्म देता हैं |

संतुलित आहार का मतलब है भोजन की प्रवृतियों को समझना जैसे :सात्विक , राजसिक और तामसिक | यदि आप गुस्से पर काबू पाना चाहते हैं तो तामसिक ( मांसाहार , अधिक मसालेदार ) भोजन को त्यागना पड़ेगा और राजसिक ( बिना मांसाहार, कम मसालेदार ) भोजन से  सात्विक ( शुद्ध शाकाहारी) भोजन की ओर बढना पड़ेगा |

क्यूंकि तामसिक भोजन गुस्से और फ़्रस्ट्रेशन को बढ़ता है जो खुद व्यक्ति के लिए हानिकारक है |

इसीलिए  समझदारी से संतुलित आहार लीजिये और गुस्से से दूर रहिये |

12) मनोचिकित्सक की सलाह :

यदि आप गुस्से पर काबू नहीं कर पा रहे हैं और आपका व्यवहार Out Of control होने लगा है तो एक अच्छे प्रशिक्षित मनोचिकित्सक ही सलाह ज़रूर लें जो आपके और अपनों के लिए बेहद ज़रूरी है |

मनोचिकित्सक आपकी समस्यायों को सुनेगा,  सही मार्गदर्शन के साथ Counselling भी करेगा जो आपको खुद के व्यवहार के प्रति नयी दिशा दिखायेगा |

याद रहे : लोग क्या कहेंगे से कहीं ज़रूरी है आपका बेहतर मानसिक स्वास्थ्य|

निष्कर्ष (conclusion) :

दोस्तों, आपने जाना कि गुस्सा कितना नुकसान दायक है क्यूंकि यह वो ज़हर है जो इंसान को धीरे-धीरे मारता है|

इसीलिए ज़रूरत है इससे खुद को बचाकर जीवन में आगे बढ़ा जाये और बताई गयी युक्तियों को जीवन में उतरा जाये |

मैं आशा करता हूँ सरल युक्ति के माध्यम से लेखे “How To Control Anger In Hindi” आपको पसंद आया होगा और आपको “गुस्से पर कैसे काबू पाएं ?” को  समझने में सहायता मिली होगी | आप इस “Tips To Control Anger” को अपने मित्रों को भी शेयर  कर सकते हैं और अपने सुझाव मुझको भेज सकते हैं जिससे मुझे और बेहतर लिखने की प्रेरणा (Inspiration) मिलेगी |

हमेशा खुश रहिये और मुस्कुराते रहिये ||

धन्यवाद |

About Vinay Rajput

Hi, I m Vinay Rajput, an Author, and founder of Saralyukti.com. I m here to publish motivational and other blogs to inspire people to live an easy life in day-to-day unwanted circumstances and issues.

View all posts by Vinay Rajput →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *